एमएसओ का राष्ट्रीय अधिवेशन का पहला दिन , अल्पसंख्यक दर्जा बचाने के लिए कमर कसी

mso-national-executive-first-day-focus-on-minority-character-of-amu
  • सेव एएमयू के नाम से अभियान की शुरूआत होगी
  • अलीगढ़ के लिए सभी को संगठित करने की योजना-
  • अलीगढ़ यूनिवर्सिटी के लिए एमएसओ ने कमर कसी,
 नई दिल्ली, 30 जुलाई। मुस्लिम स्टूडेंट्स ऑर्गेनाइज़ेशन ऑफ़ इंडिया यानी एमएसओ के पहले दिन की बैठक में सभी राज्यों से आए छात्र प्रतिनिधियों ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के अल्पसंख्यक दर्जे को बचाने के लिए संगठित होकर मुहिम चलाने का निर्णय किया गया। गर्मागर्म बहस के दौरान कई छात्र नेताओं ने केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार के उस फ़ैसले की आलोचना की जिसमें सरकार ने अदालत में चुनौती दी गई यूनिवर्सिटी के अल्पसंख्यक दर्जे को नहीं बचाने का निर्णय किया है।
सम्मेलन के पहले दिन मेहमानों का स्वागत करते हुए एमएसओ के महासचिव इंजिनियर शुजात अली क़ादरी ने कहाकि पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद (सल्ललाहो अलैहि वस्सलाम)  ने एक व्यक्ति में सूर्य, नदी एवं धरती के गुण पैदा करने की नसीहतकी। उन्होंने कहाकि इससे आपमें नरमी, झुकाव एवं रहम का गुण पैदा होता है जो मुस्लिम होने के लिएआवश्यक तत्व हैं। उन्होंने कहाकि पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद ने जिस गुणों का ज़िक्र किया है वह ख़्वाजामुईनुद्दीन चिश्ती ग़रीब नवाज़ में देखे जा सकते हैं और भारत सूफ़ीवाद का घर है। उन्होंने इस बात पर ज़ोरदिया कि 1857 की क्रांति में प्राणों की आहूति देने वाले सूफ़ी संतों का इतिहास जमा किए जाने की आवश्यकताहै।
 एमएसओ के राष्ट्रीय सलाहकार मंडल के अध्यक्ष सय्यद मुहम्मद क़ादरी ने दिल्ली में पत्रकारों को बताया कि एमएसओ की राज्यों युनिटों के सभी प्रतिनिधि दो दिन चलने वाले मुस्लिम स्टूडेंट्स ऑर्गेनाइज़ेशन के अधिवेशन में अपनी राय रख रहे हैं जिसमें सबसे प्रमुख मुद्दा अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के अल्पसंख्यक दर्जे का है।
कादरी ने बताया कि एमएसओ के पहले दिन अदालत में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के अल्पसंख्यक दर्जे पर बहस हुई जिसके तहत केन्द्र सरकार ने निर्णय लिया है कि वह उस याचिका को चुनौती नहीं देगी जिसमें एएमयू के माइनोरिटी दर्जे को समाप्त करने की अपील की गई है।
 mso-national-executive-first-day-focus-on-minority-character-of-amu

विशेषाधिकारों का हनन करना चाहती है सरकार – प्रोफ़ेसर लियाकत मोइनी

 एमएसओ के संरक्षक प्रोफ़ेसर लियाकत मोइनी ने कहाकि केन्द्र सरकार मुसलमान विद्यार्थियों और भर्ती में मुस्लिम उम्मीदवारों को मिलने वाले विशेषाधिकारों का हनन करना चाहती है जबकि संविधान और सुप्रीम कोर्ट के कई निर्णयों के आधार पर मुस्लिम समुदाय को बाक़ी अल्पसंख्यकों की तरह अपने शैक्षणिक संस्थान बनाने, अपने पाठ्यक्रम अनुसार शिक्षा ग्रहण करने और उसे संचालित करने का अधिकार देता है।
 मुस्लिमो  संस्थानों  पर बदनीयत है सरकार मुफ़्ती अशफ़ाक हुसैन क़ादरी  
 अधिवेशन में तंजीम उलेमा इस्लाम के अध्यक्ष मुफ़्ती अशफ़ाक क़ादरी ने कहाकि अल्पसंख्यक संस्थान पर शिक्षा का अधिकार जैसा क़ानून भी लागू नहीं होता लेकिन सरकार की बदनीयत मुस्लिम संस्थाओं को सामान्यीकरण कर समुदाय के हक़ को छीनना चाहती है जिसे बर्दाश्त नही किया जाएगा। उन्होंने कहाकि अगर एएमयू के बहाने सरकार मुस्लिम शैक्षणिक संस्थानों पर क़ब्ज़ा करना चाहती है तो उसकी इस बदनीयती को कामयाब नहीं होने दिया जाएगा।
 एएमयू के बाद जामिया का नम्बर खालिद अय्यूब मिस्बाही
 पहले दिन के अधिवेशन में मुस्लिम स्टूडेंट्स ऑर्गेनाइज़ेशन ऑफ़ इंडिया के उपाध्यक्ष ने कहाकि एएमयू के बाद मोदी सरकार जामिया मिल्लिया इस्लामिया, मौलाना आज़ाद नेशनल उर्दू विश्वविद्यालय और अन्य मुस्लिम अल्पसंख्यक संस्थानों को मुसलमानों से छीनकर साम्प्रदायिक बंटवारा कर अपने वोट बैंक को यह संदेश देना चाहती है कि वह भारत के हिन्दूकरण की नीति पर कार्य कर रही है। एमएसओ के इसके ख़िलाफ़ ना सिर्फ़ सड़कों पर आएगी बल्कि अदालत में भी इसको चुनौती दी जाएगी।
 शिक्षा का स्तर ऊपर उठाये मुस्लिम- अनिकेत श्रीवास्तव
 प्रसिद्ध कम्पनी सचिव अनिकेत श्रीवास्तव ने कहाकि मुस्लिम समुदाय के सामने ग़रीबी एवं अशिक्षा सबसे बड़ी समस्या है। इससे निपटने के लिए मुस्लिम समुदाय को शिक्षा का स्तर बढ़ाकर धनार्जन एवं व्यापार में आगे आने की कोशिश करनी चाहिए एवं उनके इस प्रयास में हम उनका साथ देने के लिए तैयार हैं।

विद्यार्थियों का साम्प्रदायिक बँटवारा नहीं होने देंगे सय्यद तकी  

 सामाजिक और कांग्रेस के लीडर सय्यद तकी ने कहाकि नरेन्द्र मोदी सरकार विद्यार्थी मुद्दे पर एकदम फेल हो चुकी है। पहले रोहित वेमुला के मुद्दे पर दलित और यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमीशन के मुद्दे पर युवाओं से टकरा कर अपनी किरकिरी करा चुकी भारतीय जनता पार्टी सरकार चाहती है कि इसी क्रम में मुसलमान विद्यार्थियों से भी टकरा लिया जाए। अलीगढ़ के नाम पर विद्यार्थियों को साम्प्रदायिक आधार पर बाँटने पर तुली बीजेपी सरकार को मुँह की खानी पड़ेगी।

इस्लाम शांति का धर्म – बरकाती

 कन्जुल ईमान के संपादक ज़फरुद्दीन बरकाती ने कहाकि पैग़म्बर मुहम्मद के हर जानदार पर रहम काआदेश दिया लेकिन पेट्रोडॉलर पर पलने वाले आतंकवादी संगठनों के काले कारनामों से हमारा सर नीचा हो गयाहै। देखा जाए तो इन शैतानी ताक़तों ने इस्लामी जगत को ही नुक़सान पहुँचाया है। लीबिया, सीरिया, इराक़ औरबाक़ी स्थलों का हवाला देते हुए बरकाती ने कहाकि इसकी बर्बादी करने वाले इस्लाम का नारा लगाता हैं लेकिनवह आतंकवादी हैं। दुनिया की आबादी का मुसलमान 25 प्रतिशत है लेकिन वह मुख्यधारा से बाहर है। उन्होंनेकहाकि इसका रास्ता शिक्षा, व्यापार, संस्कृति, सूफ़ीवाद एवं शोध से निकलेगा।
 यूपी चुनाव के नाम पर एएमयू की बलि हाजी शाह मुहम्मद क़ादरी
 राबिया बसरिया के सुप्रीमो हाजी शाह मुहमद क़ादरी ने कहाकि भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का साम्प्रदायिक आधार पर बँटवारा कर वोट लेने के फ़ॉर्मूले के तहत अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के अल्पसंख्यक दर्जे पर बहस की जा रही है लेकिन एमएसओ राज्य में अलीगढ़ के बहाने साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण नहीं होने देगी। बीजेपी अलीगढ़ के रास्ते लखनऊ विधानसभा की सीढ़ियाँ चढ़ना चाहती है जिसका मुँहतोड़ जवाब दिया जाएगा।

दूसरे दिन राष्ट्रीय नीति का मूल्यांकन

 मुस्लिम स्टूडेंट्स ऑर्गेनाइज़ेशन ऑफ़ इंडिया यानी एमएसओ अपने दूसरे और अंतिम दिन केन्द्र सरकार और संबंधित राज्यों में वहां की सरकार की शिक्षा और अल्पसंख्यक नीति का मूल्यांकन करेंगे। एमएसओ यह भी पता करने की कोशिश करेगी कि केन्द्र और राज्य सरकारों की किस नीति के कारण मुस्लिम विद्यार्थियों में हीन भावना या कट्टरता की तरफ़ बढ़ने की प्रेरणा मिलती है। वज़ीफ़ा, सुविधा,दाख़िले, साम्प्रदायिक आधार पर बँटवारे, योगदान और कार्य योजना को लेकर कई राज्यों के प्रतिनिधि अपनी रिपोर्ट रखेंगे जिसमें संशोधन के बाद एक वर्षीय योजना को अंजाम दिया जाएगा। दूसरे दिन के कार्यक्रम में मुफ़्ती खालिद अय्यूब मिस्बाही  अपना अध्यक्षीय भाषण देंगे।
 कार्यक्रम में प्रोफ़ेसर असद मालिक, इमरानुद्दीन बंगाल, अलिबुल हसन ओस्मानी असाम, आमिर तहसिनी, खुर्शीद रजवी बंगलुरु, अब्दुल अरशद हैदराबाद, अनीस शिराज़ी मुरादाबाद, इदरिस नूरी राजस्थान, सलमान, यावर चौधरी, मोईनुद्दीन त्रिपुरा, हबीब मुल्तानी आदि लोग मौजूद रहे.

आमिर हुसैन तहसीनी

 (सचिव)

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*