भारत के दुश्मन हाफ़िज़ सईद को इस्लाम से ख़ारिज करने वाले पहले फ़तवे को MSO का समर्थन

934792-hafizsaeed-1439103869

जयपुर 22 अगस्त. सूफ़ी मत के केंद्र बरेली से पाकिस्तानी आतंकी हाफिज सईद को इस्लाम से खारिज़ करने वाले फतवे को भारत की छात्रों और युवाओ के सबसे बड़े संगठन मुस्लिम स्टूडेंट्स आर्गेनाइजेशन ऑफ़ इंडिया का समर्थन मिल गया है, जयपुर प्रवास पर आये MSO के राष्ट्रीय महासचिव इंजिनियर शुजाअत अली क़ादरी ने कहा कि बरेली दरगाह की तरफ से दिए गए फतवे से आतंकवाद को रोकने में बहुत बल मिलेगा. उन्होंने हैरानी जताते हुए कहा कि बात बात कर आतंक की निंदा करने वाले संगठन अब तक इस फतवे पर खामोश क्यों है.?

क़ादरी ने कहा कि अगर भारत का बहुसंख्यक सूफ़ी मानता है कि हाफ़िज़ सईद मुसलमान नहीं है तो देवबंद मदरसा, अहले हदीस हिन्द, जमाते इस्लामी, उसकी राजनीतिक शाखा वेलफेयर पार्टी, मदरसा नदवा और वहाबी मत के मौलाना अपना मत स्पष्ट करें कि वह हाफिज़ सईद के बारे में क्या मानते हैं, यदि यह मानते हैं कि बरेली दरगाह का फ़तवा सही नहीं है तो क्या यह हाफिज सईद का समर्थन कर रहे हैं और यदि यह बरेली दरगाह के फ़तवे पर ख़ामोश रहते हैं तो क्या यह हाफ़िज़ सईद को मौन समर्थन है.

उन्होंने कहा कि देवबन्द मदरसा इस्लामी आतंकवाद की तो आलोचना करता है लेकिन कभी किसी संगठन या आतंकवादी का नाम लेकर उसकी आलोचना नहीं करता, अगर उसने कभी ऐसा किया हो तो उसका सुबूत पेश किया जाए उन्होंने सवाल किया कि भारत के दुश्मन हाफ़िज़ सईद के विरुद्ध नाम लेकर फ़तवा देवबन्द और नदवा मदरसा कब जारी करेंगे?

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*