MSO कानपुर की मासिक बैठक में राजनीतिक हालात पर हुई चर्चा

कानपुर – देश के सबसे बड़े छात्र संगठन मुस्लिम स्टूडेंट ओर्गेनाईज़ेशन ऑफ इंडिया की कानपुर यूनिट की महाना बैठक रविवार को कानपुर के नायब सदर अदनान अहमद बरकाती के चमनगंज स्थित निवास पर हुई।  बैठक में कानपुर यूनिट के सभी पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया।

इस मौके पर कानपुर यूनिट के सदर वासिक बेग बरकाती ने कहा कि जिस कौम में बाशऊर लोगों के हाथो में कयादत नहीं होती वो कौम सियासी एतबार से बर्बाद हो जाती है। सियासी शऊर आदमी में कब पैदा होता है इस बात पर ग़ौर अगर हम नहीं करेंगे तो हम ये पैदा ही नहीं कर पायेंगे। बरकाती ने आगे कहा कि इस्लाम के दूसरे खलीफा हज़रत उमर फारूख रज़ी का कौल मशहूर है की जिसको हालाते हाज़रा का इल्म ना हो उसको मिंबर पर ना चढ़ने दिया जाए। मौजूदा दौर में जो चल रहा है उसको हालात कहते है और इन हालात से जो पूरी तरह वाकिफ़ हो उसको हालाते हाजरा का इल्म कहते है। मसलन अभी जो हालात है पूरी दुनियाँ में उम्मते मुस्लीमा के खिलाफ एक मुन्नजम तरीके से तहरीक चलाई जा रही है जिसका शिकार मुसलमान हो रहा है ऐसी तहरीक मुस्लिम्स के लिए सैकड़ों साल पहले से चल रही है लेकिन तब मुस्लिम्स में सियासी शऊर था तो मुसलमान इनको काबू उबूर पाकर इन पर ही हुक्मरान हो जाता था। सियासी शऊर के लिए दुनियावी तालीम बेहद जरूरी है और उससे भी बेहद जरूरी दीनी तालीम है, तारीख का इल्म इंसान को राह दिखाता है मौजूदा दौर की सियासी रवीश का इल्म आपको फैसलाकुन बनाता है फैसला सही लेना ही कामयाबी की मंजिल तक ले जाता है। ज्यादातर सियासी लोग सियासत में दाखिल ही कुछ मकसद को लेकर होते है पहला ओहदा, दूसरा पैसा, तीसरा शोहरत और जाहिल लोग ऐसे लीडर को तस्लीम भी कर लेते हैं क्योंकि वो खुद भी जिंदगी में यही आरजू तमन्ना रखते है। आज के दौर के सियासी लोग एक जगह जमा होकर हालाते हाजरा पर तबादला ए ख्याल ही करने की जरूरत महसूस नहीं करते क्योंकि उनको या तो इसका इल्म नहीं या उनका ये मकसद नहीं।

उन्होने कहा, जब तक सियासत में बेदीन बेशऊर लोगो के हाथो में कयादत होगी हम यूं ही कमजोर होते रहेंगे और दीगर कौम हम पर मुसल्लत होती रहेगी। जिस आदमी को हम जानते है की इस आदमी ने पूरी जिंदगी गलत तरीके से, रिश्वत से दौलत जमा की है, उसको हम अपना रहबर चुनने की गलती खुद करते हैं फिर उससे उम्मीद रखना जहालत है। वोटर को जब तक सियासी तमीज़ पैदा नहीं होगी तब तक यूं ही हम बगैर रहबर रहेंगे। तालीम ही इंसान में तमीज़ पैदा करती है जितना हो सके कौम को ज्यादा से ज्यादा तालीम हासिल करनी चाहिए, वो भी दुनियावी और दीनी दोनों यही इंसान में हर तरह का शऊर पैदा करती है। यही बाशऊर लोग मिंबर पर चढ़ने के लायक होते है। अल्लाह हमारी कौम मुस्लिमा के सियासतदां को बाशऊर बनाए ताकि वो राह दिखा सकें।

बैठक में मुख्य रूप से वासिक बेग बरकाती, अदनान अहमद बरकाती, हाफिज़ मोनिस चिश्ती, उमैर उस्मानी, साकिब बरकाती, सुहैल कादरी, शाहनवाज़, आदिल कादरी, अब्दुल, आमिर, शाहरुख़ खान, युसुफ, शीराज़, अरसल, फैज़ान, ज़हिद आदि लोग मौजूद रहे I

Latest articles

46,417FansLike
5,515FollowersFollow
6,254FollowersFollow

Related articles

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

46,417FansLike
5,515FollowersFollow
6,254FollowersFollow

Events